नेटवर्क मार्केटिंग कैसे शुरू हुई इसके बारे में जाननें के लिये मैंने कई सालो तक काफी किताबो का अध्ययन किया जिनमे इसकी शुरुवात होने के अलग अलग तथ्य दिए गए थे और ज्यादातर इसकी शुरुवात अमरीका से होने की बात की करते थे|

परन्तु में यह जानने के लिए में उत्सुक था की अमरीका में इस सोच का जन्म कैसे हुआ और तब जाकर मुझे इसका उत्तर एक किताब में मिला वो किताब थी मरीन इन्शुरन्स की शुरुवात की कहानी वही से जुड़े है नेटवर्क मार्केटिंग के शुरुवाती दौर के तार|

आपको यह जान कर हैरानी होगी की नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुवात अमरीका में नही, बल्कि यही भारत में हुई थी वाकया बड़ा अचंबित करने वाला है पर सच है|

Custom Text

नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुवात भारत से हुई थी| भारत एम एल एम (MLM Business) का जन्मस्थान है |

बात सन 1850 के आस पास की है जब मुम्बई के समुद्र में मछली पकड़ने वाले मछुवारों को हर साल आने वाली बाढ़ से परेशान थे जिसमे उनकी नाव या तो डूब जाती थी या टूट जाती थी और मछवारो के लिए आगे की जिंदगी दुभर हो जाती थी|

इस परेशानी को देखते हुए मरीन इन्शुरन्स नाम एक सहकारी योजना बनाई गयी जिसमे नाव का इन्शुरन्स का प्रस्ताव था की सब मिलकर कुछ थोड़ा थोड़ा पैसा देंगे और जिस भी किसी मछवारे की नाव को नुकसान होगा यह पैसा उससे देकर नई नाव या मरमत के लिए दिया जाएगा|

परन्तु शुरुवात में थोड़ा पैसा भी देने के लिए बहुत ही काम लोग तैयार हुए बाकी लोग आमदनी काम होने का तर्क देकर इस स्कीम में शामिल होने से बचने लगे फिर इसमें समिति में एक रेफरल सिस्टम यानी नेटवर्क मार्केटिंग को जोड़ा गया|

जिसके मुताबिक लोगो को समिति में इन्शुरन्स करवाने वाले मछुवारो को इन्शुरन्स अपनी नाव का फ्री मिलेगा यह तरीका सबको बहुत पसंद आया और देखते ही देखते इस माध्यम से ज्यादातर मछुवारे इस मरीन इन्शुरन्स से जुड़ गए और देखते ही देखते पूरे देश में यह समिति मछुवारों को इन्शुरन्स इसी माध्यम से देने लगी|

उस समय का सारा व्यापार समुद्र के रास्ते ही होता था और भारत से लगभग हर सामान विदेशो में समुद्र के रास्ते जाता था| जैसे भारत में यह पद्धति कामयाब हुई विदेशो में भी इसकी जानकारी फैली और देखते ही देखते कई देशो में इस स्कीम को मछुवारों और समुद्री जाहजो के लिए अपनाया गया
कुछ समय बाद अमरीका में यह स्कीम जाहजो से निकल कर घरेलू उत्पाद और फ्री इन्शुरन्स से निकल कर आमदनी के रूप में प्रस्तुत की गयी जो आज की नेटवर्क मार्केटिंग व्यार पद्धति का रूप ले चुकी है|
Filter:AllOpenResolvedClosedUnanswered
OpenFaiyaz Ahmad asked 2 weeks ago • 
24 views0 answers0 votes
Openwccaer asked 1 month ago • 
21 views0 answers0 votes
OpenKonatham Vinay Kumar asked 2 months ago • 
38 views0 answers0 votes
OpenPankaj kumawat asked 6 months ago • 
318 views0 answers0 votes
OpenNhl asked 11 months ago • 
287 views0 answers0 votes
OpenRajni asked 1 year ago • 
218 views0 answers0 votes
OpenGirdhari Singh asked 1 year ago • 
239 views0 answers0 votes
OpenJaspal asked 1 year ago • 
485 views0 answers1 votes