राजीव सिंह भारत में नेटवर्क मार्केटिंग के जनक

8
2240

जब नेटवर्क मार्केटिंग की बात आती है तो मेरे दिमाग़ मैं सबसे पहला नाम राजीव सिंह जी का आता है,जो मेरे हिसाब से भारत मैं नेटवर्क मार्केटिंग के जनक है|उनसे मेरी मुलाकात आज से लगभग 20 साल पहले, 1998 मैं हुई थी जब वो मोदी केयर के स्टार थे, जब मैने उनके बारे मैं जानने की शुरूवात की मेरी जिगयासा नेटवर्क मार्केटिंग के प्रति गंभीर होती चली गयी और मैने डाइरेक्ट सेल्लिंग को अपनी ज़िंदगी में कॅरियर के रूप मैं लिया|

राजीव सिंह सिर्फ एक नाम नही है बल्कि नेटवर्क मार्केटिंग के प्रति जुनून का प्रायवाची है | 1998 से मैन नोटिस किया सबसे पहला फ़ोन जो मुझे नींद से जगाता था वो पहला फ़ोन मेरे स्पांसर का न होकर श्री राजीव सिंह जी का होता था | रोज सुबह उनका गुड मॉर्निंग कहने के अंदाज में एक ऐसी प्रेरणा होती थी जो कहती थी जागो उठो और अपने लक्ष्य की तरफ आज एक कदम और बढ़ाओ|
रोज अपने सभी डाउन लाइन्स को प्रेरित करना और उन्हें उस दिन नया क्या करने का टारगेट देना श्री राजीव सिंह का पहला काम होता था |

अगर उनसे कोई भी नेगेटीव विचार रखता था तो वो बहुत समझदारी से उस बात पर एक प्रेरणा दायक कहानी बता कर उस नेगेटिव संवाद को पॉजिटिव संवाद में ढाल देते थे|

India Best MLM software company


कंपनी के विषय में हमेशा एक पॉजिटिव संवाद और दूसरे लीडर्स का किया अच्छा काम बात हमेशा मोटीवेट करना उनका सबसे बड़ा गुण था|

उनके बारे में मशहूर था अगर कोई बात या टारगेट राजीव सिंह ने ठान लिया तो उसे पूरा करने से उन्हें कोई नही रोक सकता|

उस समय राजीव जी दिल्ली के सटे बहादुर गढ़ हरयाणा में रहते थे उनके पास एक स्कूटर हुआ करता था और मोदी केयर का आफिस लगभग 35 किलो मीटर दूर राजौरी गार्डन दिल्ली में था| नए डिस्ट्रीब्यूटर को स्टार्टर किट मिला करती थी जो की एक बड़े बैग में होती थी| राजीव जी नए डिस्ट्रीब्यूटर्स को हरयाणा में रिक्रूट करते थे और अपने स्कूटर पर 1 ही बार में 30-35 किट बांध कर ले जाया करते थे जो अपने आप में एक अचंभित कर देने वाला कार्य था| यह काम करने का जुनून ही आम इंसान को राजीव सिंह जैसा महान नेटवर्कर बनाता है|

अपनी जीवन के अनमोल 30 साल से भी ज्यादा आज राजीव सिंह नेटवर्क मार्केटिंग को दे चुके है इस दौरान वो बहादुर गढ़ के निगम पार्षद का चुनाव भी जीते और राजनीति में भी अपनी जीत दर्ज की लेकिन उनका झुकाव हमेशा नेटवर्क मार्केटिंग में ही रहा तो उन्होंने राजनीति को त्याग मल्टी लेवल मार्केटिंग को ही चुना|

आज 2017 में अगर में देखो तो जुनून ही हद इतनी है उनको दो बार हार्ट अटैक हो चुका, बाई पास सर्जरी हो चुकी है, पेस मेकर लगा है ऐक न्यूरो अटैक हो चुका रोजाना डॉक्टर्स और हॉस्पिटल्स के चक्कर लगाने पड़ते है पर ऐसी स्थिति में भी घर आकर जो सबसे पहला काम श्री राजीव सिंह जी करते है वो है किसी न किसी के साथ अपनी नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी का प्रचार और उससे अपने साथ जोड़ने का प्रयास|

मै अपनी ज़िन्दगी में बहुत बड़े और ज्यादा पैसे कमाने वाले नेटवर्कर्स को जनता हूँ पर जो जुनून डायरेक्ट सेल्लिंग के लिए श्री राजीव सिंह जी के पास है वो मैंने किसी और लीडर या अचीवर के पास नही देखा |

श्री राजीव सिंह न सिर्फ आने वाली नेटवर्क मार्केटिंग के लिए मार्ग दर्शक रहेंगे बल्कि हमेशा चलते रहो मंज़िल मिलेगी आपको अपनी कए प्रेरणा के स्रोत्र रहेंगे|

में उनकी लंबी आयु और स्वस्थ की ईश्वर से कामना करता हूँ|

8 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.